पादरी एलविन थॉमस द्वारा प्रभु का भविष्यवाणी वचन – यह तो यहोवा की ओर से हुआ है, यह हमारी दृष्टि में अद्धभुत है, भजन संहिता ११८ :२३

मसीह में प्रियों प्रभु यीशु मसीह के नाम से आपको कृपा और शांति मिले । फरवरी महीने में प्रभु कौन सा प्रतिज्ञा वचन देने वाले हैं? शायद इसका आपको इंतज़ार होगा । आपकी आशा से बढ़कर कार्यों को करके आपको आश्चर्यचकित करने वाले हैं । हाँ प्रियों यह आप के लिए एक अद्भुत व आश्चर्य का महीना है ।

इस महीने का प्रतिज्ञा वचन यह है कि, यह तो यहोवा की ओर से हुआ है, यह हमारी दृष्टि में अद्भुत है । (भजन संहिता 118:23)

Marvelous जो अँग्रेजी का शब्द है अगर इसका अर्थ अँगेजी dictionary में देखा जाये तो Something Superlative Causing Great Wonder अर्थ निकलता है । मतलब कि हमारी सारी आशाओं से ऊपर की ओर सृष्टि से बढ़कर एक आश्चर्यजनक होना ही अर्थ बताया गया है । हाँ प्रियों इस महीने आपके जीवन में जिस कार्य को आप सोचते हैं कि यह हो ही नही सकता और ऐसा कार्य जिसकी आपको आशा ही न हो प्रभु उसे करके आपको आश्चर्यचकित करने वाले हैं । यह मनुष्य का वचन नही बल्कि सर्वशक्तिमान महान प्रभु का बाइबल वचन है, जो उसके अभिषेक के नीचे रहकर विश्वास के साथ आपको बताता हूँ । इस महीने के आश्चचर्योंकर्मों का इंतज़ार करें । आपके जीवन में होने वाले अद्भुत कार्यों के लिए आप तैयार रहें । मेरे स्कूल के वक़्त में मेरा एक प्रिय मित्र बार -बार Marvelous शब्द बोल -बोल कर हमें उत्साहित करता था । अगर हम कोई विशेष कार्य कर दें तो लोग हमें Very Good या Super कह कर प्रोत्साहित करते हैं लेकिन उन सब से बढ़कर किये कार्य को और बढ़ावा देने के लिए Marvelous शब्द को बोलते हैं । हाँ प्रियजनों इस महीने में प्रभु आपके लिए जो अद्धभुत कार्य करने वाले हैं उसे आप देखकर Marvelous कहेंगे । आप विश्वास करें प्रभु साधारण सा कार्य नही बहुत ही आश्चर्यजनक कार्य करने वाले हैं ।

आश्चर्यजनक कोने का पत्थर

भजन संहिता 118:23 से 25 तक इन वचनों को देखने पर कौन सा कार्य हमारी आँखों के लिए आश्चर्यजनक है वह हम देख सकते हैं ।

भजन संहिता 118:22 वचन इस प्रकार है, राजमिस्त्रियों ने जिस पत्थर को निकम्मा ठहराया था वही कोने का सिरा हो गया है ।

घर बनाने वाले मिस्त्री लोग कुछ पत्थरों को बेकार समझ के फेंक देते हैं क्योंकि उस पत्थर में कुछ कमी होती है । उनकी निगाहों में वह पत्थर बेकार होता है लेकिन प्रभु परमेश्वर ऐसे पत्थरों को ही लेकर इस्तेमाल करने योग्य बनाकर ईमारत के सिरे के पत्थर के रूप में बदल देते हैं । प्रियजनों आप दुनिया के मनुष्यों की आशाओं को पूरा न करने की परिस्थिति में हो सकते हैं । ज्ञान, पढ़ाई या भाषा का ज्ञान अगर आपके पास न हो तो जो लोग आप से आशा करते हैं तो शायद आप उनकी सोचमें ख़रा न उतर पाएँ । आपके बढ़ने व सीखने को समय देने के लिए शायद खुद उनके पास समय नही हो । लेकिन उस स्थान पर आपके सिवा उसे और कोई नही सकता है । गवाही के रूप में प्रभु आपको कोने के सिरे के पत्थर के रूप में बदलने वाले हैं । इस महीने वह बदलाहट आने वाली है । यह परमेश्वर द्वारा ही सम्भव है । अधिकतर समय व्यक्तिगत रूप से हम अनेकों कार्यों को करने की कोशिश करते हैं । हम उस स्थान पर निर्णय लेने और व्यक्तिगत सहायता के लिए मनुष्य की दया को निहारते हैं । अगर आप चाहें कि मनुष्य आपको ऊँचा उठाये तो वह सिर्फ अपनी ऊँचाई तक ही ऊँचा उठा सकता है लेकिन प्रभु परमेश्वर अगर आपको ऊँचा उठाए तो न सिर्फ हमारी आँखे बल्कि आस-पास के सभी लोगों की आँखे भी आश्चर्यचकित हो जाएँगी । यह प्रभु द्वारा सम्भव हुआ है कहके हम परमेश्वर की महिमा करेंगे । हम किसी कार्य के लायक नहीं हैं लेकिन परमेश्वर हमें किसी लायक बनाएंगे ।

यीशु ही वह मूल्य पत्थर है ।

यीशु उनको देखकर मत्ती 21 :42, 44 ‘जिस पत्थर को राजमिस्त्रियों ने निकम्मा ठहराया था, वही कोने के सिरे का पत्थर हो गया ? यह प्रभु की ओर से हुआ, और हमारी द्वष्टि में अद्भुत है । ‘ जो इस पत्थर पर गिरेगा, वह चकनाचूर हो जाएगा ; और जिस पर वह गिरेगा, उसको पीस डालेगा । ”

पुराने नियम में परमेश्वर ने अपने बारे में जो कुछ कहा उस भविष्यवाणी को याद करके देखें तो मैं ही वह मूल्य पत्थर हूँ इसे हम मत्ती व मरकुस की पुस्तक में देख सकते हैं । यूहत्रा 1:11 के वचन के अनुसार वह अपने घर आया और उसके अपनो ने उसे ग्रहण नही किया । अपने ही लोगों द्वारा सूली पर चढ़ाए गया उनके द्वारा मार खाए जाने पर दुनिया के पापों का बोझ अपने ऊपर उठाकर हमें स्वर्ग के राज्य में जाने लायक बनाया । यहूदी लोगों ने सोचा होगा कि हमारा मसीहा राजा के रूप में घोड़े के रथों पर आएगा लेकिन शांति का स्वरूप गधे के बच्चे पर सवार होकर आया यह कही भविष्यवाणी को पूर्ण करने के रूप में वह गधे के बच्चे पर सवार होकर आए ।

1 पतरस 2:6, ”देखो, मैं सिय्योन में कोने के सिरे का चुना हुआ और बहुमूल्य पत्थर धरता हूँ: और जो कोई उस पर विश्वास करे वह किस रीति से लज्जित नही होगा ।

भजन संहिता 118 हमें प्रोत्साहित करता हुआ अध्याय है । यह परिवार सहित पढ़ने वाला भजन है । उसमें प्रभु को स्तुति बलि, प्रार्थना, मुँह के शब्दों को माँगना वह घोषणा इन चारों परिस्थिति में खड़े होकर प्रभु के नाम को ऊँचा उठाकर इस भजन को दाऊद ने लिखा है । एक विश्वासी का जीवन कैसा होना चाहिए यह हमें दर्शाता है । जितनी भी समस्याएँ हमें दबाएँ अगर उन समस्याओं के लिए हम प्रभु के सामने आसूँओ के साथ प्रार्थना करें तो भी आप प्रभु से यह बात कहें कि आपसे सब कुछ सम्भव है ।

आप पूरा करेंगे इस विश्वास के जरिए प्रभु अद्भुत कार्य करने योग्य महान हैं । भजन संहिता 118 हमें सिखाती है, “Our God is a Marvelous God” उसके लिए कुछ भी असम्भव नही है ।

यिर्मयाह 32:27 का वचन कहता है, “मैं तो सब प्राणियों का परमेश्वर यहोवा हूँ ; क्या मेरे लिए कोई भी काम कठिन है ?
अय्यूब 5 :9 में देखा जाए तो, वह तो ऐसे बड़े काम करता है जिसकी थाह नही लगती और इतने आश्चर्यकर्म करता है जो गिने नही जाते । किसी भी वैज्ञानिक खोज में न पाए जाने वाले कार्य को भी प्रभु कर सकते हैं । सांसारिक तौर से एक स्त्री बिन पुरुष के सम्बन्ध द्वारा बच्चा पैदा नही कर सकती । जब मरियम से स्वर्गदूत ने कहा तब उसने जवाब दिया यह कैसे सम्भव है मैं तो पुरुष को जानती तक नही लेकिन जो मनुष्य से न हो सका वह परमेश्वर द्वारा सम्भव हो सका । हाँ प्रियजनों आपके जीवन में प्रभु अलौकिक अद्भुत करने वाले हैं । जो कुछ आप सोचते हैं कि हम नही कर सकते वह सब प्रभु कर सकते हैं ।

यशायाह 28:29, यह भी सेनाओं के यहोवा की ओर से नियुक्त हुआ है, वह अद्भुत युक्ति वाला और महाबुद्धि महान है । प्रभु आपके कार्यस्थलों में भी महान कार्य करने वाले हैं जो कार्य अब तक आप कर रहे हैं उनसे बढ़कर आने वाले दिनों में उनकी महानता के कार्यों द्वारा बाहर आने वाली है । अगर आप विश्वास करें तो कहिए आमीन!

प्रभु किन – किन कार्यों में आश्चर्यकार्य करते हैं यह देखें

आश्चर्यजनक बनावट

भजन संहिता 139:14,15 – मैं तेरा धन्यवाद करूँगा, इसलिए कि मैं भयानक और अद्भुत रीति से रचा गया हूँ । तेरे काम तो आश्चर्य के हैं, और मैं इसे भली भाँति जानता हूँ ।

जब मैं गुप्त में बनाया जाता, और पृथ्वी के नीचे स्थानों में रचा जाता था, तब मेरी हड्डियाँ तुझ से छिपी न थीं । परमेश्वर द्वारा हमें रचा जाना बहुत ही आश्चर्यजनक है । पृथ्वी पर मनुष्य के प्रयास के बग़ैर एक और मनुष्य का जन्म नही हो सकता । एक पुरुष का वीर्य 0.05 मिलीमीटर या 0.002 इंच होता है । साधारण तौर पे उसे देखा नही जा सकता । माईक्रोस्कोप के द्वारा ही देखा जा सकता है । इतने छोटे बीज से उस परिवार के रूप या गुणों से भरा एक व्यक्ति को बनाना कितने आश्चर्य की बात है । अनेक लोग जब मुझसे प्रार्थना करवाने आते हैं कि पादरी हममे कोई कमी नही है और हमने बहुत से इलाज करवा लिए हैं फिर भी हमें बच्चा क्यों नही होता पूछते हैं लेकिन परमेश्वर की इच्छा के बिना कुछ भी नही होता । उसी ने हमें भयानक और अद्भुत रीति से रचा है । एक बच्चा पैदा होने के बाद ही वह किसके समान दिखता है उसके कान, आँख, मुँह सब कैसा है हमें पता चलता है लेकिन मेरे प्रभु परमेश्वर किसी भी अंग के सृष्टि से पहले ही उसके रूप की सारी सृष्टि को जानते हैं । भजन संहिता 139 :16

रोमियों 4 :17 में, और जो बातें हैं ही नहीं उनका नाम ऐसे लेते है कि मानो वे हैं । रचे जाने के लिए किसी भी वस्तु की जरुरत नही होती है । एक कार्य के होने के लिए किसी वस्तु की आवश्यकता होती है, जो है नही उसे मान कर रचने वाले ही हमारे परमेश्वर हैं । यूहत्रा 14 :13,14 – जो कुछ तुम मेरे नाम से माँगोगे, वही मैं करूँगा कि पुत्र द्वारा पिता की महिमा हो । यदि तुम मेरे नाम से कुछ माँगोगे, तो मैं उसे करूँगा । इस वचन की मुख्यता को देखा जाए तो मेरे नाम से तुम जो कुछ भी माँगोगे अगर वह न हो तो भी उसकी उत्पत्ति करके मैं तुम्हें दूँगा ऐसा परमेश्वर कहते हैं ।
हाँ प्रियजनों, जो नही है उसकी चिन्ता न करें । यहाँ कोई अद्भुत कार्य न हो तो भी हमारे परमेश्वर जो कार्य असम्भव है उसे सम्भव बनाते हैं । इस महीने ऐसे अद्भुत कार्यों को आप देखने वाले हैं । एक बच्चे के लिए कई वर्षों से प्रार्थना करने वाली प्रिय बहन परमेश्वर आपकी कमी को देख कर आपके लिए आश्चर्यकार्य करने वाले हैं । अगले वर्ष के फरवरी महीने के अन्दर आपकी गोद में एक बच्चा होगा । परमेश्वर आश्चर्य सृष्टि करता है ।

आश्चर्यजनक क्रिया

भजन संहिता 86:10 का वचन ये है, क्योंकि तू महान और आश्चर्यकर्म करनेवाला है, केवल तू ही परमेश्वर है । परमेश्वर के कार्य मनुष्य के लिए आश्चर्यजनक होते हैं । मनुष्य के बल से न हो पाने वाला कार्य परमेश्वर के वचन से पूरा होता है । आदि में परमेश्वर ने अपने वचन से आकाश व पृथ्वी और उसमें की सारी वस्तुओं की सृष्टि की । जल से भूमि को अलग किया और भूमि दिखने लगी । समुद्र के तटों को बनाया लेकिन जब अपने लोगों पर मुसीबत आ पड़े तब समुद्र के बीच मार्ग को खोलने वाले हमारे प्रभु महान है। इजराइली लोगों को मिस्त्र लोगों द्वारा भगाए जाने पर विशाल समुद्र को दो भागों में अलग करके दीवार के समान खड़ा करने वाले हमारे परमेश्वर आज आपके लिए भी आपके विरुद्ध आने वाली हर प्रकार की मुसीबतों को तोड़कर सही मार्ग में चला सकते हैं । वह प्रकृति से बढ़कर एक बड़े काम को आपके जीवन में करके आश्चर्यचकित करने वाले हैं । प्रकाशितवाक्य 15 :3 का वचन इस प्रकार है , वे परमेश्वर के दास मूसा का गीत, और मेम्ने का गीत गा गाकर कहते थे, “हे सर्वशक्तिमान प्रभु परमेश्वर, तेरे कार्य महान और अद्भुत हैं ; वह प्रभु के सेवक मूसा के गीत , मेम्ने का गीत गाकर सर्वशक्तिमान प्रभु परमेश्वर की क्रिया महान और अद्भुत है । स्वर्ग के अनेकों दूत भी प्रभु के आश्चर्यकर्मों की स्तुति करते हैं । मूसा के द्वारा विशाल समुद्र को अलग करके इजराइली लोगों के बचाये जाने पर जो गीत गाये गए वह स्वर्ग में भी गाया जाएगा । इस प्रकार के आश्चर्यकर्मों को प्रभु ने उस समय भी किया और आज भी करते हैं । आश्चर्यजनक उद्धार भजन संहिता 98 :1 यहोवा के लिए एक नया गीत गाओ, क्योंकि उसने आश्चर्यकर्म किए हैं ! उसके दाहिने हाथ और पवित्र भुजा ने उसके लिए उद्धार किया है! परमेश्वर का उद्धार बहुत ही आश्चर्यजनक है ।

भजन संहिता 98 में बार -बार स्तुति करते हम देख सकते हैं । हमारी हैसियत से बढ़कर हमें अपना हाथ बढ़ाकर उद्धार के मार्ग में चलाने वाले उसकी बड़ी दया के लिए जितने घंटे भी स्तुति करो तो भी वह पूरा नही पड़ेगा । प्रियों उद्धार न पाए हुए आपके परिवार के लोगों के लिए क्या आप बहुत वर्षों से प्रार्थना कर रहे हैं? क्या वह आपको कलीसिया व सेवकाई में आने के लिए बाधा उत्पन्न करते हैं? चिन्ता न करें, परमेश्वर के हाथ छोटे नही हुए हैं कि वह उद्धार न कर पाएँ । निश्चय इस वर्ष परमेश्वर उनको छूकर उनका उद्धार करेंगे जो आपके लिए आश्चर्यजनक होगा । जक्कई बहुत वर्षों तक परमेश्वर को जो न भाता था ऐसे कार्य को करते आए लेकिन एक दिन परमेश्वर ने उसे बुलाया और वह घर के अन्दर आया तभी जक्कई के घर में उद्धार आया । उसके पाप क्षमा हुए और वह एक ही दिन में पवित्र बना । आपके घर में भी उस प्रकार के आश्चर्यचकित कार्य होने वाले हैं । कई वर्षों पहले इस सेवकाई की शुरुवात में मैं बैंगलोर से चेन्नई रेल द्वारा आ रहा था । जब Cantonment स्टेशन आया तब एक जवान भाई मुझसे मिला वह अपने पाप से भरे जीवन के बारे में जिसमें वह जी रहा था उसे वह मेरे साथ बाँट रहा था । तब भविष्यवाणी के रूप में मेरे जरिये परमेश्वर ने उससे बात की । उसके लिए मैंने प्रार्थना की और मेरे पास एक जोड़ी नए जूते थे उसे और जितना पैसा मेरे पास था मैंने उसे दिया और आ गया । मैंने उससे पता व फ़ोन नंबर तक नही लिया यह मेरी सेवकाई की शुरुवात थी, जिसमें मैंने अधिक कमियों और आवश्यकताओं के बीच इस कार्य को किया था । तो मेरे घर वाले मुझे पूछने लगे कि ऐसा क्यों किया ? फिर कई वर्षों के बाद वह जवान फिर से एक और मसीह सभा में मुझसे मिला । तब उसने जो बात मुझसे कही वह बहुत ही आश्चर्यजनक थी की भाई अगर आप उस दिन मुझे न मिले होते तो मैं उसी दिन मर गया होता । आपने जो मदद की और आपके द्वारा दिखाए प्रभु यीशु मसीह ने ही मेरे जीवन को नया बनाया । उद्धार के अनुभव को पाकर आज मैं प्रभु की सेवकाई कर रहा हूँ यह गवाही दी । यह कितने आश्चर्य की बात है अचानक यात्रा के दौरान मिले भाई का जीवन बदला । आपके परिवार वालों के जीवन में इस प्रकार के आश्चर्यकर्म जल्दी ही होने वाले हैं । विश्वास करें ।

आश्चर्यजनक पुनर्निर्माण

जकर्याह 8:6 का वचन कहता है, सेनाओं का यहोवा यों कहता है : चाहे उन दिनों में यह बात इन बचे हुओं की दृष्टि में अनोखी ठहरे, परन्तु क्या मेरी दृष्टि में भी यह अनोखी ठहरेगी, सेनाओं के यहोवा की यही वाणी है ?
परमेश्वर का वचन कहता है कि मैं तुझे फिर से बसाऊँगा इस प्रतिज्ञा वचन को देने वाले प्रभु परमेश्वर आपके जीवन को भी बसाएँगे और यह अनेकों की दृष्टि में आश्चर्यजनक होगा । जब येरूशलेम नगर को फिर से बसाया गया वह सभी लोगों के लिए आश्चर्य का कारण था ठीक वैसे ही आपके आसपास के लोगों के बीच आपकी बढ़ोतरी आश्चर्यजनक होगी । ज्ञानी लोग लज्जित होने हेतु प्रभु ने मूर्खों को चुन लिया है । हाँ आप कितने कमज़ोर हैं यह परमेश्वर नही देखते । आपके द्वारा परमेश्वर के राज्य का निर्माण करना ही उनकी इच्छा है ।

आश्चर्यजनक दया

भजन संहिता 111:4 का वचन इस प्रकार से है, “उसने अपने आश्चर्यकर्मों का स्मरण कराया है ; यहोवा अनुग्रहकारी और दयावंत है। हमारी हर परिस्थिति में परमेश्वर हमारे लिए दयावंत है जिसे देखने पर आश्चर्य होता है । मुसीबतों के समय मनुष्य हमारा साथ छोड़ देते या हमें अपमानित करते हैं उस समय प्रभु की दया ही हमें बल देती है । कनानी स्त्री अपने बच्चे पर दया के लिए गिड़-गिड़ाती है । गिड़-गिड़ाकर चंगाई को प्राप्त करती है लेकिन मरे हुए लाज़र को जिलाने के लिए कोई नही कहता । मर जाने के बाद आप क्यों आये ऐसा पूछते हैं लेकिन दयावंत प्रभु यीशु अपने प्रिय लाज़र को जिलाने उसकी कब्र पर गए और आँसू बहाकर रोये । हाँ प्रियों प्रभु जो आपसे प्रेम करते हैं वो हर परिस्थिति में आपसे प्रेम करते हैं । अनुग्रहकारी प्रभु आपके आसुओं को पोछकर आश्चर्यकार्य आपके जीवन में करने वाले हैं । विलापगीत 3:22 का वचन कहता है, हम मिट नहीं गए ; यह यहोवा की महाकरुणा का फल है, क्योंकि उसकी दया अमर है । एक बड़े आश्चर्यकर्म को आप अपने जीवन में पाने के लिए तैयार रहें । आमीन

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *